Home >> Tag Archives: Aaj ka Ruhani Vichar

Tag Archives: Aaj ka Ruhani Vichar

Hum Bhikhari Wo Malik hai Daani

एक बहुत बड़ा अमीर आदमी था। उसने अपने गांव के सब गरीब लोगों के लिए, भिखमंगों के लिए महीने का तय दान बांध दिया था। किसी भिखमंगे को दस रुपये मिलते महीने में, किसी को बीस रुपये मिलते। वे हर एक तारीख को आकर अपने पैसे ले जाते थे। वर्षों से ऐसा चल रहा था। एक भिखमंगा था जो बहुत ...

Read More »

Bhajan Simran ki Ahmiyat – Baba Sawan ji ki Sakhi – Ruhani Vichar – 23 July 2017

भजन सिमरन एक बार बाबा सावन सिंह जी महाराज से एक सत्संगी ने पूछा कि हुज़ूर! आप अपने सत्संग में भजन सिमरन पर ही इतना जोर क्यों देते हैं? जबकि आप अच्छी तरह से जानते हैं कि हमसे भजन सिमरन नहीं होता तो हज़ूर ने फ़रमाया, “मैं अच्छी तरह से जानता हूँ, इसीलिए तो बार बार कहता हूँ कि भजन ...

Read More »

Naam ka Fal – Aaj ka Ruhani Vichar – 20 Jul 2017

संसार का भ्रमण करते हुए गुरु नानक सच्चे पातशाह ओर मरदाना किसी जंगल से जा रहे थे मरदाना ने कहा महाराज बहुत भूख लगी हैं नानक जी नो कहा मरदाना रोटियां सेंक ले, मरदाना ने कहा बहुत ठंड हैं ना तो कोई चुल्हा हैं और न ही कोई तवा हैं और पानी भी बहुत ठंडा हैं तालाब छोटा था जैसे ...

Read More »

Baba ji ke Satsang ki Baat – Aaj ka Ruhani Vichar – 15 July 2017

बाबाजी समझाते हैं कि – ” शब्द ” हमारा आधार ही नही है , हमें इस बात की खबर ही नही हैं कि सतगुरु हमे जगाते हैं… “जागो प्यारे जागो “, “शब्द” हर पल हमारी हम सब की सम्भाल कर रहा है ! हम “शब्द” की हिफाज़त में हैं ,”शब्द” ही हमे कायम रखता हैं ! “शब्द” ही हमारा प्राण है ...

Read More »

Naarad Muni Ke Bhagwan aur Hamare Baba Ji – Aaj ka Ruhani Vichar – 14 July 2017

एक दिन नारद जी भगवान के लोक को जा रहे थे। रास्ते में उन्हें एक संतानहीन दुखी मनुष्य मिला। उसने कहा- नारद जी मुझे आशीर्वाद दे दो तो मेरे सन्तान हो जाऐ। नारद जी ने कहा- भगवान के पास जा रहा हूँ। उनकी जैसी इच्छा होगी लौटते हुए बताऊँगा। नारद ने भगवान से उस संतानहीन व्यक्ति की बात पूछी तो ...

Read More »

Naam ki kamai – Aaj ka Ruhani Vichar – 8 July 2017

नाम की कमाई करने के लिए हमेशा तीन बातों को याद रखना चाहिए: एक गफ़लत या आलस नहीं करना हैः दूसरे दुनियां में से अपने ख़याल को निकालने की कोशिश करनी चाहिए तीसरे नाम की कमाई को अपने अन्दर हज़म करना है सिमरन करो सतगुरु का साथ वो निभायेगे मंजिल तुम पाओ रास्ता सतगुरु बनाऐगे खुश तुम रहो खुशिया सतगुरु ...

Read More »