Allah ki Marzi – Baba Ji Satsang

ये कहानी एक सत्संगी ने भेजी है, बड़े महाराज जी ने एक सत्संग में सुनाई एक बादशाह था, वह जब नमाज़ के लिए मस्जिद जाता, तो 2 फ़क़ीर उसके दाएं और बाएं बैठा करते! दाईं तरफ़ वाला कहता: “या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!” बाईं तरफ़ वाला कहता: “ऐ बादशाह! अल्लाह ने तुझे ...

Read More »

Jogi Ki Sadhna aur Guru ka gyan

॥ राधा स्वामी जी ॥ यह बडे बाबा जी के समय की बात है। एक जोगी हिमालय पर बैठा बन्दगी किया करता था, एक दिन का वर्णन है कि उस को भजन में हजूर जी ने दर्शन दिए। अपनी सोटी से उठाकर कहने लगे देख जोगी यदि तुम्हें प्रभु से मिलने का रास्ता लेना है मेरे पास ब्यास आ जा। ...

Read More »

Mera Guru Sachha – Guru Nanak Dev ji ki Sakhi

॥ राधा स्वामी जी ॥ करतार पुर में गुरु नानक साहेब जी के दर्शन करने के लिए एक दिन बहुत संगत आ गयी। उस टाईम वहाँ लंगर प्रसाद चल रहा था। आई हुई बहुत सी संगत की वजह से वहाँ लंगर प्रसाद कम पड़ने लगा। ये बात जब सेवक जी ने आ कर गुरु नानक महाराज जी को बताया तो, ...

Read More »

Daan ka paap?

॥ राधा स्वामी जी ॥ एक बार की बात है एक भिखारी कबीर साहब के पास आया और कुछ खाने के लिए मांगा । भिखारी काफी दिन से भूखा था । तब कबीर जी कपडे बुन रहे थे । कबीर जी ने भिखारी से कहा कि मेरे पास इस समय खाने के लिए कुछ भी नही है । और ना ...

Read More »

Shant Mann – Nishkam Bhav

॥ राधा स्वामी जी ॥ — गुरु-शिष्य भ्रमण करते हुए एक वन से गुजर रहे थे। कुछ दूर से एक झरने का पानी बह कर आ रहा था। गुरूजी को प्यास लगी। उन्होंने शिष्य को कमण्डल में पानी भर कर लाने के लिए कहा। शिष्य ने पानी के पास पहुँच कर देखा कि वहां से अभी-अभी बैल गाड़ियाँ निकलीं हैं, जिससे ...

Read More »

Santon ki Mauj

॥ राधा स्वामी जी ॥ सन्तों की अपनी ही मौज होती है! एक संत अपने शिष्य के साथ किसी अजनबी नगर में पहुंचे। रात हो चुकी थी और वे दोनों सिर छुपाने के लिए किसी आसरे की तलाश में थे। उन्होंने एक घर का दरवाजा खटखटाया, वह एक धनिक का घर था और अंदर से परिवार का मुखिया निकलकर आया। ...

Read More »