Home >> Short Stories >> Naam Japne ka Parinaam – Bahut hi sundar katha

Naam Japne ka Parinaam – Bahut hi sundar katha

नामजप का परिणाम

एक गाँव में एक बुज़ुर्ग बीबी रहती थीं । उसका कोई नहीं था, वे गोबर के उपले बनाकर बेचती थी और उसी से अपना गुजारा चलाती थीं | पर उस बीबी की एक विशेषता थी कि वे कृष्ण भक्त थीं , उठते बैठते कृष्ण नामजप किया करती थीं यहाँ तक उपले बनाते समय भी | उस गाँव के कुछ दुष्ट लोग उसकी भक्ति का मज़ाक उड़ाते और एक दिन तो उन दुष्टों ने एक रात उस वृद्ध बीबी के सारे उपले चुरा लिए और आपस में कहने लगे कि अब देखें कृष्ण कैसे इनकी सहयता करते हैं | सुबह जब वह उठीं तो देखती है कि सारे उपले किसी ने चुरा लिए | वे मन ही मन हंसने लगी और अपने कान्हा को कहने लगीं , “पहले माखन चुराता था और मटकी फोड़ गोपियों को सताता था अब इस बुढ़िया के उपले छुपा मुझे सताता है, ठीक है जैसी तेरी इच्छा” यह कह उसने अगले दिन के लिए उपले बनाना आरंभ कर दिये |

दोपहर हो चली तो भूख लग गयी पर घर में कुछ खाने को नहीं था, दो गुड की डली थीं अतः एक अपने मुह में डाल पानी के कुछ घूंट ले लेटने चली गयी |

वो कुल मालिक तो भक्त का प्यार मात्र चाहते हैं और अपने भक्त को कष्ट होता देख वे विचलित हो जाते हैं , उनसे उस बुज़ुर्ग बीबी के कष्ट सहन नहीं हो पाये |

सोचा उसकी सहायता करने से पहले उसकी परीक्षा ले लेता हूँ अतः कृष्ण साधू का वेश धारण कर उसके घर पहुँचे कुछ खाने को मांगने लगे , उस बुज़ुर्ग बीबी को अपने घर आए एक साधू को देख आनंद तो हुआ पर घर में कुछ खाने को न था यह सोच दुख भी हुआ

उसने गुड की इकलौती बची हुई डली बाबा को शीतल जल के साथ खाने को दे दी | बाबा उस स्त्री के त्याग को देख प्रसन्न हो गए और जब बुज़ुर्ग बीबी ने
बाबा को अपना सारा वृतांत सुनाया तो बाबा उन्हें सहायता का आश्वासन दे चले गए और गाँव के सरपंच के यहाँ पहुंचे |

सरपंच से कहा , “सुना है इस गाँव के बाहर जो बुज़ुर्ग बीबी रहती है, उसके उपले किसी ने चुरा लिए, मेरे पास एक सिद्धि है कि यदि गाँव के सभी लोग अपने उपले ले आयें तो मैं अपनी सिद्धि के बल पर उस बुज़ुर्ग बीबी के सारे उपले अलग कर दूंगा” |

सरपंच एक भला व्यक्ति था उसे भी बुज़ुर्ग बीबी के उपले चोरी होने का दुख था अतः उन्होने साधू बाबा रूपी कृष्ण की बात तुरंत मान ली और गाँव में ढिंढोरा पिटवा दिया कि सब अपने घर के उपले तुरंत गाँव की चौपाल पर लाकर रखें |

जिन दुष्ट लोगों ने चोरी की थी उन्होंने भी बुज़ुर्ग बीबी के उपले अपने उपलों में मिलाकर उस ढेर में एकत्रित कर दिये | उन्हें लगा कि सब उपले तो एक जैसे होते हैं अतः साधू बाबा कैसे पहचान पाएंगे | दुर्जनों को ईश्वर की लीला और शक्ति दोनों पर ही विश्वास नहीं होता |

साधू वेशधारी कृष्ण ने सब उपलों को कान लगाकर बुज़ुर्ग बीबी के उपले अलग कर दिये | बुज़ुर्ग बीबी अपने उपलों को तुरंत पहचान गयी और
उनकी प्रसन्नता का तो ठिकाना ही नहीं था , वे अपने उपले उठा , साधू बाबा को नमस्कार कर चली गयी |

जिन दुष्टों ने बुज़ुर्ग बीबी के उपले चुराए थे उन्हें और वहां उपस्थित लोगों में से किसी को भी यह समझ में नहीं आया कि बाबा ने कान लगाकर उन उपलों को कैसे पहचाना, अतः जब बाबा गाँव से कुछ दूर निकल आए तो वे दुष्ट, बाबा से इसका कारण जानने पहुंचे , बाबा ने सरलता से कहा कि “बुज़ुर्ग बीबी हमेशा
ईश्वर का नाम जप करती थी और उसके नाम में इतनी आर्तता थी कि वह उपलों में भी चला गया , कान लगाकर वे यह सुन रहे थे कि किन उपलों से कृष्ण का नाम निकलता है और जिनसे कृष्ण का नाम निकल रहा था उन्होने उन्हे अलग कर दिया” ।

यह है नामजप का परिणाम अतः हमने व्यवहार के प्रत्येक कृत्य करते समय नामजप करना चाहिए इससे हम पर ईश्वर कि कृपा होती है व संकट से बचाव होता है

दीन दयाल भरोसे तेरे,राधा स्वामी जी, शुक्र है दातेया

सभी प्यारे सतसंगी भाई बहनों और दोस्तों को हाथ जोड़ कर प्यार भरी राधा सवामी जी..

Connect with Us

Loading Facebook Comments ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*