Home >> Short Stories >> Dosti ka Fal

Dosti ka Fal

कंचनपुर के एक धनी व्यापारी के घर में रसोई में एक कबूतर ने घोंसला बना रखा था । किसी दिन एक लालची कौवा उधर से आ निकला । वंहा मछली को देखकर उसके मुह में पानी आ गया ।

तब उसके मन में विचार आया कि मुझे इस रसोईघर में घुसना चाहिए लेकिन कैसे घुसू ये सोचकर वो परेशान था

तभी उसकी नजर वो कबूतरों के घोंसले पर पड़ी, उसने सोचा कि मैं अगर कबूतर से दोस्ती कर लूँ तो शायद मेरी बात बन जाएँ । कबूतर जब दाना चुगने के लिए बाहर निकलता है तो कौवा उसके साथ साथ निकलता है ।

थोड़ी देर बाद कबूतर ने पीछे मुड़कर देखा कि कौवा उसके पीछे है, इस पर कबूतर ने कौवे से कहा भाई तुम मेरे पीछे क्यों हो ?

इस पर कौवे ने कबूतर से कहा कि तुम मुझे अच्छे लगते हो इसलिए मैं तुमसे दोस्ती करना चाहता हूँ इस पर कौवे से कबूतर ने कहा कि हम कैसे दोस्त बन सकते है, हमारा और तुम्हारा भोजन भी तो अलग अलग है मैं बीज खाता हूँ और तुम कीड़े ।

इस पर कौवे ने चापलूसी दिखाते हुए कहा “कौनसी बड़ी बात है मेरे पास घर नहीं है इसलिए हम साथ साथ तो रह ही सकते है है न और साथ ही भोजन खोजने आया करेंगे, तुम अपना और मैं अपना

घर के मालिक ने देखा कि कबूतर के साथ एक कौवा भी है तो उसने सोचा कि चलो कबूतर का मित्र होगा इसलिए उसने उस बारे में अधिक नहीं सोचा । अगले दिन कबूतर खाना खोजने के लिए साथ चलने को कहता है तो कौवे ने पेट दर्द का बहाना बना कर मना कर दिया ।

कबूतर अकेला ही चला गया क्योंकि कौवे ने घर के मालिक को नौकर से यह कहते हुए सुना था कि आज कुछ मेहमान आ रहे है इसलिए तुम मछली बना लेना, उधर कौवा नौकर के रसोई से बाहर निकलने का इन्तजार ही कर रहा था, उसके जाते ही कौवा थाली पर झपटा और मछली उठाकर आराम से खाने लगा । नौकर जब वापिस आया तो कौवे को मछली खाते देख गुस्से से भर गया और उसने कौवे को पकड़ कर गर्दन मरोड़ कर मार डाला, तभी कबूतर वापिस आया तो उसने कौवे की हालत देखी तो सारी बात समझ गया । इसलिए कहा गया है दुष्ट प्रकृति के प्राणी को उसके किये की सज़ा अवश्य मिलती है

दोस्तो इस कहानी से वैसे तो कई संदेश मिलते हैं लेकिन ये main संदेश हैं.
1 – दोस्ती करते वक्त सावधान,और जब दोस्ती हो जाये तो उसे सही ढंग से निभाना चाहिये.
2 – दोस्ती करनी का फल भी मिलता है अच्छी का अच्छा व बुरे का बुरा, समय लग सकता है लेकिन फल संभव है.

Connect with Us

Loading Facebook Comments ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*