Home >> Short Stories >> Baba Ji Aur Icecream wala

Baba Ji Aur Icecream wala

एक आइसक्रीम वाला रोज एक मोहल्ले में आइसक्रीम बेचने जाया करता था | उस कालोनी में सारे पैसे वाले लोग रहा करते थे लेकिन वहां एक परिवार ऐसा भी था जो आर्थिक तंगी से गुजर रहा था | उनका एक चार साल का बेटा था जो हर दिन खिड़की से उस आइसक्रीम वाले को ललचाई नज़रों से देखा करता था | आइसक्रीम वाला भी उसे पहचानने लगा था लेकिन वो लड़का कभी घर से बाहर आइसक्रीम खाने नहीं आया | एक दिन उस आइसक्रीम वाले का मन नहीं माना तो वो खिड़की के पास जाकर उस बच्चे से बोला बेटा क्या आपको आइसक्रीम अच्छी नहीं लगती, आप कभी मेरी आइसक्रीम नहीं खरीदते? उस चार साल के बच्चे ने बड़ी मासूमियत के साथ कहा कि मुझे आइसक्रीम तो बहुत पसंद हे पर माँ के पास पैसे नहीं हैं | आइसक्रीम वाले को यह सुनकर उस बच्चे पर बड़ा प्यार आया | उसने कहा, बेटा तुम मुझसे रोज आइसक्रीम ले लिया करो, मुझे  तुमसे पैसे नहीं चाहिए |

वो बच्चा बहुत समझदार निकला और बहुत सहज भाव से बोला कि नहीं ले सकता | माँ ने कहा हे किसी से मुफ्त में कुछ लेना गन्दी बात होती है इसलिए मैं कुछ दिए बिना आइसक्रीम नहीं ले सकता, वो आइसक्रीम वाला बच्चे की इतनी गहरी बात सुनकर आश्चर्यचकित रह गया | फिर उसने कहा कि “तुम मुझे आइसक्रीम के बदले में रोज एक झप्फ़ी (HUG) दे दिया करो | इस तरह मुझे आइसक्रीम की कीमत मिल जाया करेगी !” बच्चा ये सुनकर बहुत खुश हुआ वो दौड़कर घर से बाहर आया | आइसक्रीम वाले ने उसे एक आइसक्रीम दी और बदले में उस बच्चे ने उस आइसक्रीम वाले को  एक झप्फ़ी (HUG) दी और खुश होकर घर के अन्दर भाग गया |अब तो रोज का यही सिलसिला हो गया, वो आइसक्रीम वाला रोज आता और एक झप्फ़ी (HUG) के बदले उस बच्चे को आइसक्रीम दे जाता | करीब एक महीने तक यही चलता रहा लेकिन उसके बाद उस बच्चे ने अचानक से आना बंद कर दिया | अब वो खिड़की पर भी नजर नहीं आता था |

जब कुछ दिन हो गए तो आइसक्रीम वाले का मन नहीं माना और वो उस घर पर पहुँच गया | दरवाजा उस बालक की माँ ने खोला | आइसक्रीम वाले ने उत्सुकता से उस बच्चे के बारे में पूछा तो उसकी माँ ने कहा “देखिये भाई साहब हम गरीब लोग हैं, हमारे पास इतना पैसा नहीं है जो अपने बच्चे को रोज आइसक्रीम खिला सकें | आप उसे रोज मुफ्त में आइसक्रीम खिलाते रहे, जिस दिन मुझे ये बात पता चली तो मुझे बहुत शर्मिंदगी हुई | आप एक अच्छे इंसान हैं लेकिन मैं अपने बेटे को मुफ्त में आइसक्रीम खाने नहीं दे सकती”| बच्चे की माँ की बाते सुनकर उस आइसक्रीम वाले ने जो उत्तर दिया वो आप सब के लिए सोचने का कारण बन सकता हैं, वो बोला “बहनजी ! कौन कहता हैं कि मैं उसे मुफ्त में आइसक्रीम खिलाता था| मैं इतना दयालु या उपकार करने वाला नहीं हूँ | मैं व्यापार करता हूँ और आपके बेटे से जो मुझे मिला वो उस आइसक्रीम की कीमत से कहीं अधिक मूल्यवान था और कम मूल्य की वस्तु का अधिक मूल्य वसूल करना ही व्यापार है | एक बच्चे का निश्छल प्रेम पा लेना सोने चांदी के सिक्के पा लेने से कहीं अधिक मूल्यवान है, आपने अपने बेटे को बहुत अच्छे संस्कार दिए हैं लेकिन मैं आपसे पूछता हूँ, क्या प्रेम का कोई मूल्य नहीं होता?”

उस आइसक्रीम वाले के अर्थ पूर्ण शब्द सुनकर बालक की माँ की आँखे भीग गयी | उन्होंने बालक को पुकारा तो वो दौड़कर आ गया | माँ का इशारा पाते ही बालक दौड़कर आइसक्रीम वाले से लिपट गया | आइसक्रीम वाले ने बालक को गोद में उठा लिया और बाहर जाते हुए कहने लगा “तुम्हारे लिए आज चाकलेट आइसक्रीम लाया हूँ !! तुझे बहुत पसंद है न?”  बच्चा उत्साह से बोला “हां बहुत !!!” बालक की माँ ख़ुशी से रोने लगी |

ऐसा ही प्यार का एहसास हमारे साथ हमारे बाबा जी का है, हम तो इतने गरीब हैं कि सत्संग , सेवा, सिमरन के लिए समय नहीं निकल पाते, बस कभी कभी उस मालिक को याद कर लेते हैं, कभी कभी ब्यास चले जाते हैं और अपना फ़र्ज़ निभा आते हैं, वो तो उस मालिक की दया है और बाबा जी इतने दयालु हैं, हमारी हर तरह से संभाल करते हैं, हमारा परमार्थ भी सवांरते हैं और स्वार्थ भी |

“राधा स्वामी जी”

Connect with Us

Loading Facebook Comments ...

2 comments

  1. Avatar

    Radha soami ji to all Baba’s loving sadsangat ji

  2. rajinder singh saroya
    rajinder singh saroya

    nice example

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*