Bhajan Simran ki Ahmiyat – Baba Sawan ji ki Sakhi – Ruhani Vichar – 23 July 2017

भजन सिमरन एक बार बाबा सावन सिंह जी महाराज से एक सत्संगी ने पूछा कि हुज़ूर! आप अपने सत्संग में भजन सिमरन पर ही इतना जोर क्यों देते हैं? जबकि आप अच्छी तरह से जानते हैं कि हमसे भजन सिमरन नहीं होता तो हज़ूर ने फ़रमाया, “मैं अच्छी तरह से जानता हूँ, इसीलिए तो बार बार कहता हूँ कि भजन ...

Read More »

Baba Ji Question Answer Session – Mar 2017 – Part 1

Q1 ek ladke ne sawal kiya ki mera dost puchta hai ki Beas main kon rehta hai tera Jo tu Beas jata hai. Answer – BaBa Ji ne kaha ki usko bolno ki mera Baap rehta hai Beas main. Q2 ek ladke ne sawal kiya ki BaBa Ji hamare yahan apki kripa se satsang gher Bana hai per sangat kam ...

Read More »

Jaisa Ann, Vaisa Mann

यह कहानी बड़े महाराज जी ने अपने सुनाई, बासमती चावल बेचने वाले एक सेठ की स्टेशन मास्टर से साँठ-गाँठ हो गयी। सेठ को आधी कीमत पर बासमती चावल मिलने लगा। सेठ ने सोचा कि इतना पाप हो रहा है, तो कुछ धर्म-कर्म भी करना चाहिए। एक दिन उसने बासमती चावल की खीर बनवायी और किसी साधु बाबा को आमंत्रित कर ...

Read More »

Sant Ravidas aur Pipa Ji

राजा पीपा जी का नाम आप सभी सुना ही होगा, ये एक राजा थे जो बाद में उच्च कोटि के महात्मा बन कर उभरे राजा पीपा जी को अध्यात्म में गहरी रूचि थी, एक दिन राजा पीपा ने अपने मंत्री से किसी उच्च कोटि के महात्मा का पता करने को कहा तो मंत्री ने बताया कि “अपने ही राज्य में ...

Read More »

Baba Ji – North California – USA – 13 July 2017

13 जुलाई 2017 को बाबा जी, Fayetteville, North Carolina, USA में थे। बहुत ही Short नोटिस पर भी देश भर से एक बड़ी संख्या में संगत /सत्संगी इकट्ठे हुए और प्रिय बाबा जी के सत्संग और दर्शनों को प्राप्त किया विजय जी, जिन्होंने यह हमें भेजा, के अनुसार शब्दों में उन पलों की संगत की ख़ुशी को समझा या लिख ...

Read More »

Malik ki Mauj, Malik hi jaane

बात पुरानी है ग्रेट मास्टर के टाइम की…. एक इंजीनियर साहिब ने सुनाई…. आप से शेयर कर रहा हूँ….. भंडारे पेर बाबा जी 2.30 घंटे का सत्संग किया करते थे…. तब संगत या सत्संग के लिए शेड नही थे, खुले मैं ही सत्संग होता था और रात को संगत तंबुओं मैं सोती थी….. एक बार भंडारे पर बहुत बारिश हुई, ...

Read More »