Home >> Thought of the day

Thought of the day

A Short Story

संन्यास लेने के बाद गौतम बुद्ध ने अनेक क्षेत्रों की यात्रा की। एक बार वह एक गांव में गए। वहां एक स्त्री उनके पास आई और बोली- आप तो कोई राजकुमार लगते हैं। क्या मैं जान सकती हूं कि इस युवावस्था में गेरुआ वस्त्र पहनने का क्या कारण है? बुद्ध ने विनम्रतापूर्वक उत्तर दिया कि तीन प्रश्नों के हल ढूंढने ...

Read More »

Satsang ki sangat (Hindi)

To read this in ENGLISH, click HERE सत्संग खत्म होने के बाद बाबा जी स्टेज के पीछे सीढियों से नीचे जा रहे थे, साथ में पाठी बीबी भी थे, पाठी बीबी बाबा जी से कहती हैं “बाबा जी आज तो काफी संगत आई है भंडारे पे, जरा अंदाज़े से बताइए की आज का सत्संग सुनने के लिए कितनी संगत आई ...

Read More »

Satsang ki sangat (English)

To read this in HINDI, click HERE After finishing his Satsang, Baba Ji was at backstage, Pathi Bibi was also along with Baba Ji. While going down stairs, She said, “Baba Ji, today we have huge number of sangat in satsang, As per your gut filling, how many were there in today’s satsang?” Baba ji replied, “If you are asking ...

Read More »